अश्वगंधा के बहुमूल्य फायदे जो आपको ज़रूर पता होने चाहिए | ashwagandha ke kya fayde hai

अश्वगंधा के क्या गुण हैं

अश्वगंधा के क्या गुण हैं


अश्वगंधा के क्या गुण हैं

अश्वगंधा बहुत ही उपयोगी आयुर्वेदिक औषधि होती है सदियों से ही कई सारे असाध्य रोगों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।  अश्वगंधा का नाम कई बहुमूल्य आयुर्वेदिक औषधियों में लिया जाता रहा  है।  
   अथर्थवेद में भी अश्वगंधा का जिक्र होने मिलता है।  इसका पेड़ बहुत ही ज्यादा जीवट होता है और मई-जून की गर्मी भी ये बड़े आराम से झेल जाता है इसके सेवन के बहुत सारे लाभ हैं। जैसे -
 इसके सेवन से हाइट्स बढ़ सकती है। 
  • इसके सेवन से बालों की प्रॉब्लम खत्म हो सकती है।
  • डायबिटीज को कंट्रोल करने में ये बहुत ही उपयोगी है। 
  • यह हार्टअटैक यानी हृदय के रोगों के लिए बहुत अच्छा है।  
  •  अगर आपको अपना वजन बढ़ाना है या वेट गेन करना है तो यह बहुत अच्छा है 
  • आपकी आंखों की रोशनी कम हो रही है उस को बढ़ाना है  तो भी ये बड़ा गुणकारी है क्योंकि आंखों की प्रॉब्लम आज के समय में सभी के साथ होने लग गई है अब तो छोटे बच्चों को भी आंखों की रोशनी कम होने लग गई है। 
  • कैंसर जैसी बीमारी जिसका इलाज अभी तक ठीक से मिला नहीं है वह भी अश्वगंधा से संभव हो सकता है।
  •  आपकी स्किन से रिलेटेड कोई भी प्रॉब्लम है वह भी अश्वगंधा ठीक कर सकती है। 
          तो इतने सारे फायदे हैं अश्वगंधा के।  




वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग कैसे करें

यदि आपको अपना वजन बढ़ाना है आप थोड़े दुबले-पतले देखते हैं और आपकी पर्सनालिटी एकदम अच्छी नहीं लगती तो आप अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं। कई बार हम कितना भी अच्छा ड्रेस पहने  लेकिन यदि हम बहुत ज्यादा पतले होते हैं तो ड्रेस बिलकुल अच्छा नहीं लगता।  वैसे भी अभी जीरो फिगर का टाइम नहीं रहा। अभी के टाइम में थोड़ी मोटी लड़कियां पसंद की जाती है। तो आप भी यदि अपना वेट पुट ऑन करने की सोच रहे हैं तो अश्वगंधा के लिए बहुत अच्छा हो सकता है आप को कैसे सेवन करना है हम बताते हैं। 
    100 ग्राम अश्वगंधा और 100 ग्राम शतावरी चूर्ण लें और दोनों को बराबर मात्रा में मिला कर रख लें।  रोज़ रात में सोने से पहले एक छोटा चम्मच एक गिलास गर्म दूध में मिला कर सेवन करें इसमें आप शक्कर भी स्वादानुसार मिला सकते हैं। इसका सेवन करीब 1 माह तक रोज़ाना करें। आपको पहले हफ्ते से ही असर दिखना शुरू हो जायेगा। 
   

मधुमेह में अश्वगंधा के लाभ

हमारे शरीर में हाइपोलिपिडेमिक (कम कोलेस्ट्रॉल) और हाइपोग्लाइसेमिक (रक्त-शर्करा के स्तर ) होने के कारण अश्वगंधा हमारी मांसपेशियों और कोशिकाओं में इन्सुलिन स्राव के स्टार और सवेदनशीलता को बढ़ने के लिए बड़ी ही प्रभावी औषधि रही है। 
    अश्वगंधा का सेवन करने से शरीर में ब्लड शुगर का स्तर कम होता है जिससे की मधुमेह को नियंत्रण में रखने की मदद मिलती है। अश्वगंधा कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी शरीर में कम करता है। जो कि शुगर के मरीज के लिए बेहद फायदेमंद है।


अश्वगंधा सुंदरता और चर्म रोग के लिए

    अश्वगंधा के नियमित सेवन से उम्र के बढ़ने या कम उम्र में ही स्किन पर पड़ने वाले झुर्रियो से बचा जा सकता हैं और आपके चेहरे पर चमक आ जाएगी। इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति को चर्म रोग की शिकायत है तो अश्वगंधा के चूर्ण को तेल में मिला कर मालिश करने से चर्म रोग को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। यदि अश्वगंधा का उपयोग नियमित रूप से एक सप्ताह तक किया जाए तो आपको इसका असर दिखना शरू हो जाएगा।


Post a Comment

Previous Post Next Post